Home Health & Hygiene कोरोना वायरस से बचाव ही सर्वोत्तम इलाज है

कोरोना वायरस से बचाव ही सर्वोत्तम इलाज है

*कोरोना वायरस से बचाव ही सर्वोत्तम इलाज है।*

नीचे दी गई जानकारी विभिन्न प्रामाणिक स्रोतों से संकलित की गई है। और कुछ स्वयं के अनुभव पर भी आधारित हैं। वायरस संक्रमण से बचने केे लिए इस लेख में लिखे तमाम जानकााारियों को ध्यान से पढें।

  1. सामाजिक दूरी (Social Distancing) बनाएं। शादी, पार्टी, मीटिंग, धर्म कार्य, अन्य सामूहिक क्रायक्रम, आदि फिलहाल टाल दें, बिना दो बार सोचे। हाथ न मिलाएं या गले न मिलें।
  2. हाथ कभी भी चेहरे (नाक, मुंह, आंख, कान, आदि) पर न ले जाएं। हाथ बार बार साबुन या हैंडवाश से धोते रहें। साबुन, पानी न हो तो सैनिटाइजर का प्रयोग करें। एक बात याद रखें, हाथ बिना धोये चेहरे पर भूल कर भी नहीं ले जाएं, इससे संक्रमण का खतरा सबसे ज्यादा है। कहीं बाहर निकलना जरूरी हो तो सैनिटाइजर (अल्कोहल बेस्ड) साथ अवश्य रखें और उससे अपने हाथ साफ करते रहें।
  3. सैनिटाइजर न मिले तो फिलहाल के लिए पास की दुकान से व्हाइट वेनेगर (सफेद सिरका) की एक बोतल ले आएं और उसे छोटी पॉकेट साइज बोतल में डालकर बाहर जाने के लायक बना लें। व्हाइट वेनेगर को इस वायरस पर प्रभावी पाया गया है। जब अल्कोहल बेस्ड सैनीटाइजर मार्केट में उपलब्ध हो जाए तो उसे ले आएं।
  4. मोबाइल फोन को भी सैनिटाइज करते रहें। सैनिटाइजर साथ रखें। हो सकता है आपने अपने हाथों से चेहरे को छूना छोड़ दिया हो, पर मोबाइल फोन तो आपके चेहरे को छूता ही है।
  5. वायरस संक्रमण से बचने का सबसे अच्छा उपाय है साबुन या हैंडवाश या फिर सर्फ से ही, हाथ धोना। हाथ धोने के लिए साबुन को हाथों पर कम से कम 20 सेकंड तक रगड़ें।
  6. लोगों से बात करते वक्त कम से कम 1 या 1.5 मीटर की दूरी बनाए रखें।
  7. घर में बाहरी लोगों के आने जाने पर फिलहाल रोक लगा दें। यदि अत्यंत जरूरी हो तो उन्हें खुद बाहर निकलकर अटेंड करें। ध्यान रहे, 1 या 1.5 मीटर की दूरी बनाये रखें। कोरोना वायरस से बचाव के लिये यह बेहद जरूरी है।
  8. बाजार में मास्क या तो अनुपलब्ध है या फिर बहुत महंगे। ऐसी स्थिति में आप दो रुमाल को एक दूसरे के ऊपर साटकर अपने लिए मास्क तैयार कर सकते हैं। एक के ऊपर एक सटे रूमालों को कोने से मोड़ते हुए चार लेयर करके अपने नाक के ऊपर रखकर सिर के पीछे से बांध सकते हैं।
  9. बाहर न निकलें। यदि आवश्यक सामानों के लिए बाहर निकलना ही हो तो मास्क का इस्तेमाल करें। घर वापस आकर उन रूमालों, जिनका मास्क के रूप में प्रयोग किया गया हो, को साबुन/ सर्फ से धो दें और अगली बार के लिए दूसरे रूमालों का प्रयोग करें। जिन कपड़ों को पहन कर आप बाहर गए हों, उन्हें भी तुरंत सर्फ में भिगोकर, साफ कर नहा लें। वाशिंग मशीन हो तो धोने के लिए उसका प्रयोग करें। जूत्ते-चप्पल संभव हो तो घर के बाहर रखें। यदि यह सुविधा न हो तो बाहर जाने के लिए धोने योग्य चप्पल का इस्तेमाल करें, जिसे वापस लौटने पर उसे हाथों से उठाकर बाथरूम में ले जाकर सर्फ पानी से साफ कर दें।
  10. याद रखें कोरोना वायरस का इलाज कोई भी नही है।अतः 55-60 साल या इससे अधिक के व्यक्ति घर से बाहर न निकलें।
  11. अखबार फिलहाल के लिए तुरंत बन्द कर दें। आपके घर आने के पहले यह कई हाथों से गुजरता है और इस कारण यह संक्रमण की वजह बन सकता है।
  12. खाने पीने के पैकेज्ड सामान लाने पर पहले उसे बालकनी, इत्यादि जगह पर अलग थलग करके रख दें। कम से कम तीन दिन बाद उसका इस्तेमाल करें। प्लास्टिक मैटेरियल पर वायरस तीन दिनों तक प्रभावी रह सकता है।
  13. पैकेज्ड सामान को यूज करने के पहले सर्फ के पानी में 10 मिनट डुबोकर छोड़ दें। फिर नार्मल पानी से साफ कर उसे उपयोग करें। साबुन, सर्फ, में यह वायरस निष्प्रभावी हो जाता है। दूध के पैकेट भी इसी प्रकार से प्रोसेस करें तथा उसका प्रयोग करने के पूर्व अच्छी तरह से बॉईल करें।
  14. सब्जी को प्रयोग के पूर्व बेकिंग पावडर (मीठा सोडा) का घोल बना कर उसमें डुबोकर 10 मिनट तक छोड़ दें, फिर उसे साफ कर प्रयोग करें। सब्जियों को अच्छी तरह पकने दें। बेकिंग पाउडर न होने पर उसके बदले में नमक के इस्तेमाल की भी सलाह दी जा रही है।
  15. पेपर करेंसी नोट (रुपया) से भी वायरस संक्रमण का खतरा हो सकता है। कार्डबोर्ड/ पेपर मैटेरियल पर वायरस 24 घंटे तक प्रभावी रहता है। इसलिए जो नोट कहीं से भी आप लाएं, बाजार से या फिर ATM से, उसे कम से कम 24 घंटे तक कहीं खुली हवा में छोड़ दें। उसके बाद ही उसका इस्तेमाल करें। कम से दो जगह बनाएं ऐसे नोट रखने के लिए। जो नोट 24 घंटे से अधिक समय तक छोड़ दिया गया हो, उसे ही प्रयोग में लाएं।
  16. घर के हर दरवाजे के हैंडल, नॉब, छिटकनी, में गेट के हैंडल इत्यादि सर्फ, डिटॉल, सैनिटाइजर से साफ करते रहें। बिजली के स्विच, टीवी के रिमोट, इत्यादि भी। ये संक्रमण के बहुत बड़े सोर्स हैं। बाकी खुद परखते रहें कि आपके घर में मौजूद कौन सी चीज संक्रमण को बढ़ाने में मदद कर सकता है, उन्हें भी साफ करते रहें।
  17. अन्य चीजें जो वायरस संक्रमण को बढ़ाने में मदद कर सकती हैं – लिफ्ट के बटन, सार्वजनिक वाहन (बस, ट्रेन, प्लेन, तिपहिया, आदि), कार के दरवाजे का ओपनिंग नॉब, कार, बाइक, स्कूटर के स्टीयरिंग/ हैंडल, सीट, डोर-बेल (दरवाजे की घंटी का स्विच), कुरियर के पैकेट्स, दूध के बैग, कचरे के डब्बे, गार्डन की कुर्सियां, बच्चों के प्ले एरिया, इत्यादि।
  18. वायरस संक्रमण के मुख्य लक्षण– ठंड के साथ बुखार, साँस में तकलीफ, पेट खराब, सूंघने, स्वाद में बदलाव, खांसी, सर्दी इत्यादी…
  19. बुखार होने पर Paracetamol (मुख्य ब्रांड नाम – कालपोल, क्रोसिन, डोलो, इत्यादि), अपने डोज के अनुसार – 500mg या 650mg लें, बच्चों का डोज के लिए डॉक्टर या हेल्पलाइन से संपर्क करें। गले के लिए गर्म पानी (गुनगुने) में white venegar (सफेद सिरका) या नमक डालकर गरारा करें।
  20. लक्षण दिखने पर खुद को क्वारंटाइन (अलग थलग) करें, सरकारी हेल्पलाइन नंबरों पर मदद के लिए सम्पर्क करें। हर राज्यों के लिए हेल्पलाइन नंबर अलग अलग हैं। दूसरों (परिवार के अन्य सदस्यों समेत) को संक्रमण से बचाने का दायित्व आपके ऊपर है।
  21. गरीब व्यक्ति या वे जिनका इस वायरस, सरकारी बंदी की वजह से रोजगार छीन गया हो, उन्हें भी इस मुसीबत में मदद करें। उन्हें भूखा न रहने दें। जो समर्थ हैं, ऐसे व्यक्तियों को हरसंभव आर्थिक मदद दें। उन्हें वायरस से बचाव हेतु तरीकों का भी ज्ञान कराएं। इस वर्ग की वायरस संक्रमण से बचाव की जानकारी का स्तर काफी निम्न है।
  22. अंधविश्वास, जादू-टोना, टोटका, ओझा, भूत, प्रेत, इत्यादी के चक्कर से दूर रहें। कोरोना वायरस का इलाज गोमूत्र, गोबर कतई नहीं है। इनके चक्करों में मत पड़ें। उपवास, नींबू, पानी, शहद, इत्यादी से यह बिमारी ठीक नहीं होती। पर नींबू, पानी, शहद, अदरख, काली मिर्च, आदि का सेवन आपके इम्यून (रोग प्रतिरोधी क्षमता) बढ़ाने में मददगार साबित हो सकते हैं। अपनी रोग प्रतिरोधी क्षमता को ठीक रखने के लिए मल्टी-विटामिन टेबलेट भी खाने के साथ ले सकते हैं। कोरोना वायरस से बचाव के लिए यह मददगार साबित हो सकता है।
  23. चिकेन, अंडा इत्यादी से यह बीमारी नहीं फैलती। परंतु, खाने के पहले यह सुनिश्चित करें ये ठीक से पके हों। कोरोना वायरस का इलाज अब तक खोज नहीं जा सका है अतः उससे बचाव जरूरी है।
  24. अपने अनुभव भी शेयर करें। एक दूसरे के काम आएं। यह जाती, धर्म से ऊपर उठकर सबको साथ मिलकर इस वायरस से लड़ने का समय है। विशेष जानकारी के लिए गूगल के जरिये सर्च कर किसी प्रख्यात (reputed) वेबसाइट पर जा सकते हैं। सरकार द्वारा जारी हेल्पलाइन भी आपकी मदद कर सकते हैं।

अपना और अपने परिवार का बहुत ध्यान रखें। याद रखें कोरोना से बचाव ही सर्वोत्तम इलाज है।

Tags: कोरोना वायरस से बचाव, कोरोना वायरस का इलाज, वायरस संक्रमण, कोरोना वायरस संक्रमण।

Rajeev Ranjan
राजीव रंजन: लेखक भारतीय इतिहास के अच्छे जानकर एवं कुशल बैंकर के साथ मुद्रा विशेषज्ञ एवं अर्थशास्त्र के ज्ञाता हैं। भारतीय इतिहास, अर्थतंत्र एवं सामाजिक व्यवस्था के प्रति इनका विशेष लगाव है। इनकी रचनाएँ बेहद जानकारी भरी होती हैं। Rajeev Ranjan: The writer has a great affinity towards Indian History. He is a senior Banker in India's apex bank RBI. He possess good knowledge of Indian History, Economics and Social System. His writings are very much informative.

LEAVE A REPLY

Must Read

Fooding Habits in China: A mass threat to the World

Humans have different lifestyles and immune power as compared to that of animals and immunity and healing power differs from animal to animal. Immunity...

कोरोना वायरस से बचाव ही सर्वोत्तम इलाज है

*कोरोना वायरस से बचाव ही सर्वोत्तम इलाज है।* नीचे दी गई जानकारी विभिन्न प्रामाणिक स्रोतों से संकलित की गई है। और कुछ स्वयं के अनुभव...

Mega Public Sector Bank Merger

FM Nirmala Sitharaman announces mega public sector bank merger; 10 banks amalgamated into 4 entities. This mega consolidation drive will leave only 12 major...

First they came for the socialists, and I did not speak out

Martin Niemöller (1892–1984) was a prominent Lutheran pastor in Germany. He emerged as an outspoken public foe of Adolf Hitler and spent the last...

You were my shadow

Friendship is giving yourself to someone altogether. The following is a poetry for a friend who helped me through hard times , made my struggles...